ऑयल टैंकर में लगी आग से बढ़ रहा था तेल रिसाव का खतरा, INS सह्याद्री ने बचाया

कुवैत से 270,000 मीट्रिक टन कच्चे तेल को भारत ले जाने वाले जहाज ने गुरुवार को आग पकड़ ली थी.

नई दिल्ली:

भारत की मदद से तेल टैंकर एमटी न्यू डायमंड में लगी आग को “सफलतापूर्वक कंट्रोल” कर लिया गया है, श्रीलंकाई नौसेना ने आज कहा, जहाज को जमीन से दूर गहरे समुद्र में ले जाया गया है. लंका की नौसेना ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, “एमटी न्यू डायमंड में बोर्ड पर लगी आग को काफी हद तक सफलतापूर्वक काबू में कर लिया गया है. संयुक्त ऑपरेशन के परिणामस्वरूप, सभी पक्षों से तेल टैंकर को सुरक्षित कर लिया गया है.” 

यह भी पढ़ें

भारतीय नौसेना द्वारा ताजा अपडेट के अनुसार, तेल टैंकर वर्तमान में श्रीलंकाई तट से 70 किमी दूर है और आईएनएस सह्याद्री द्वारा निकाला जा रहा है.  कुवैत से 270,000 मीट्रिक टन कच्चे तेल को भारत ले जाने वाले जहाज ने गुरुवार को आग पकड़ ली थी. 

लंका की नौसेना द्वारा पूर्वी जिले अम्पारा के संगमनंदा के तट पर टैंकर से आग पर काबू पाने के लिए सहायता मांगने के बाद भारतीय जहाजों ने सेवा में लगाया गया था. 

जारी बयान में कहा गया है, ‘ पिछली रात से ही आपदा राहत अभियान में भारतीय तटरक्षक जहाज (ICGS) सारंग, ICGS सुजय, TTT वन (अग्निशमन उपकरणों से लैस एक टग) इसके अलावा पेशेवर अग्निशामक और भारतीय तटरक्षक के 02 डोर्नियर विमान लगे हुए थे.’

तेल टैंकर में 23 क्रू मेंबर थे जिनमें से 18 फिलिपिंस के और पांच ग्रीक के थे. 23 सदस्यीय चालक दल में से 22 को टैंकर से सुरक्षित बचा लिया गया था, लेकिन इंजन रूम में बॉयलर विस्फोट में एक फिलिपिंस के नाविक की मौत हो गई.

श्रीलंकाई नौसेना ने कहा कि आपदा राहत अभियान के दौरान लगातार शीतलन प्रभाव (Cooling Effect) ने आग फैलने को नियंत्रित किया है, अभी तक तेल रिसाव का कोई खतरा नहीं है.





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *