रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन के आलोचक को कैमिकल नर्व एजेंट के जरिए दिए गया जहर: जर्मनी

रूसी विपक्षी नेता अलेक्सी नवालनी (फाइल फोटो).

बर्लिन:

जर्मन सरकार ने बुधवार को कहा कि रूसी विपक्षी नेता अलेक्सी नवालनी पर किए गए परीक्षण से पता चला कि उन्हें नोविचोक कैमिकल नर्व एजेंट द्वारा जहर दिया गया था. मामले में जर्मनी ने रूस से स्पष्टीकरण की मांग की है. सरकारी प्रवक्ता स्टीफन सीबेरट ने एक बयान में कहा, “यह एक चौंकाने वाली घटना है कि अलेक्सी नवलनी रूस में एक कैमिकल नर्व एजेंट हमले का शिकार हो गए.” “सरकार इस हमले की कड़े शब्दों में निंदा करती है. रूसी सरकार से इस घटना पर स्पष्टीकरण देने का आग्रह किया गया है.”

यह भी पढ़ें: GII 2020: ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में भारत ने लगाई 4 पायदान की छलांग, 48वें स्थान पर बनाई जगह

बर्लिन में चैरिटे अस्पताल के परामर्श से जर्मन सेना द्वारा किए गए परीक्षण, जहां नवलनी का इलाज किया जा रहा है, ने “नोविचोक परिवार से एक कैमिकल नर्व एजेंट के सबूत” पाए. 44 वर्षीय नवलनी पिछले महीने साइबेरिया में एक विमान में सवार होने के बाद बीमार पड़ गए थे. इलाज के लिए बर्लिन जाने से पहले उन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

चैरिट अस्पताल ने नवलनी की स्थिति में “कुछ सुधार” की सूचना दी है लेकिन वह अभी भी कोमा में हैं और वेंटिलेटर पर हैं. मामले को ब्रिटेन में क्रेमलिन से जुड़ी जहर दिए जाने की दो घटनाओं से जोड़कर देखा जा रहा है.  2006 में, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को लंदन में पूर्व केजीबी एजेंट अलेक्जेंडर लिटविनेंको को जहर दिए जाने के लिए दोषी ठहराया गया था.

यह भी पढ़ें: पूरी दुनिया चीन के खिलाफ एकजुट होना शुरू हो गई है: पोम्पिओ

2018 में, क्रेमलिन पर नोविचोक नर्व एजेंट का उपयोग करके दक्षिण-पश्चिम इंग्लैंड के सैलिसबरी में सर्गेई स्क्रीपाल की हत्या के प्रयास का भी आरोप लगाया गया था. जर्मन सरकार ने कहा कि वह नाटो और यूरोपीय संघ के सहयोगियों को सूचित करेगी और मामले पर एक संयुक्त प्रतिक्रिया की कोशिश करेगी. 

 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *