COVID-19 वैक्सीन को लेकर रूस के संपर्क में भारत, जानें स्वास्थ्य मंत्रालय ने और क्या दी जानकारी

वैक्सीन को लेकर रूस के संपर्क में है भारत (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. रोजाना तकरीबन 65,000 नए COVID-19 मामले दर्ज किए जा रहे हैं. कोरोना वायरस के कुल मामलों के लिहाज से भारत, अमेरिका और ब्राजील के बाद दुनिया में तीसरे स्थान पर है. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर से मंगलवार को दी गई जानकारी के मुताबिक, देश में वायरस से ठीक हुए मरीज़ों की संख्या एक्टिव केस से 3.4 गुनी ज्यादा है. मंत्रालय की प्रेस कांफ्रेंस में स्‍वास्‍थ्‍य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि  भारत में एक्टिव केस, कुल मामलों का 22 प्रतिशत है.

यह भी पढ़ें

भूषण ने कहा कि भारत जैसी बड़ी आबादी वाले देश में प्रति मिलियन टेस्ट बढ़ाना चुनौती है. उन्होंने बताया कि ऑक्सीजन पर 2.70 प्रतिशत मरीज़, ICU में 1.92 प्रतिशत और वेंटिलेटर पर 0.29 प्रतिशत मरीज़ हैं. कोरोना से देश में अब 58,390 मौतें हुई हैं. जिसमें 69 प्रतिशत पुरुष और 31 प्रतिशत महिलाएं हैं. इनमें से 11 प्रतिशत 26-44 साल के, 36 प्रतिशत 45-60 साल के और 51 प्रतिशत 60 साल से ऊपर के हैं. आज की तारीख में 1524 टेस्टिंग लैब हैं. 

एएनआई के मुताबिक, स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि जहां तक रूस द्वारा विकसित  Sputnik-5 वैक्सीन का संबंध है तो भारत और रूस संपर्क में हैं. प्रारंभिक स्तर पर जानकारियां साझा की गई हैं.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि भारत में तीन वैक्सीन क्लीनिकल स्टेज पर है और तीन प्री क्लीनिकल स्टेज पर. सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन फेज 3 में है. इसका 1700 लोगों का सैंपल साइज है. भारत बॉयोटेक ने फेज 1 में 375 लोगों का सैंपल लिया था. अब फेज 2 शुरू होना है. जायड्स कैडिला के वैक्सीन का फेज 1 का सैंपल 50 का था. अब फेज 2 शुरू होने वाला है. दो डोज की ये सब वैक्सीन है. 14-28 दिन पर दूसरा डोज दिया जाता है और फिर 2-4 हफ्तों के बाद एंटीबॉडीज देखी जाती हैं.

वीडियो: विश्व के कई देशों में कोरोना वायरस की दूसरी लहर





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *